अप्रैल-जून तिमाही में इंडसइंड बैंक का मुनाफा दोगुना होकर 1,016 करोड़ रुपये

193

इंडसइंड बैंक का शुद्ध लाभ जून तिमाही में दोगुना होकर 1,016 करोड़ रुपये

जून तिमाही के लिए बैंक की शुद्ध ब्याज आय (एनआईआई) 3,564 करोड़ रुपये रही

इंडसइंड बैंक ने वित्त वर्ष 2021-22 की अप्रैल-जून तिमाही में समेकित आधार पर 1,016 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया, जबकि पिछले साल की इसी तिमाही में यह 510 करोड़ रुपये था, जो कि सालाना आधार पर 99 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है। -वर्ष। स्टॉक एक्सचेंजों को एक नियामक फाइलिंग के अनुसार, खुदरा ऋणों में वृद्धि और कम गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) प्रावधानों के कारण चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में बैंक का शुद्ध लाभ लगभग दोगुना हो गया।

निजी क्षेत्र के ऋणदाता की गैर-निष्पादित संपत्ति जून 2021 के अंत तक सकल अग्रिम का 2.88 प्रतिशत हो गई, जबकि एक साल पहले की अवधि में यह 2.53 प्रतिशत थी। बैड लोन या नेट एनपीए पिछले साल के 0.86 फीसदी से घटकर 0.84 फीसदी पर आ गया।

जून तिमाही के लिए फंसे कर्ज और आकस्मिकताओं के लिए प्रावधान भी घटकर 1,844.02 करोड़ रुपये रह गया, जो पिछले साल की इसी तिमाही में 2,258.88 करोड़ रुपये था। जून तिमाही के लिए बैंक की शुद्ध ब्याज आय (एनआईआई) पिछले साल की इसी तिमाही के 3,309 करोड़ रुपये की तुलना में आठ प्रतिशत की वृद्धि के साथ 3,564 करोड़ रुपये रही।

”बैंक ने CASA द्वारा संचालित अपने जमा आधार (YoY 26 प्रतिशत तक) में मजबूत वृद्धि देखी (YoY 33 प्रतिशत ऊपर)। चुनौतीपूर्ण परिचालन माहौल को देखते हुए बैंक ऋण वृद्धि (छह प्रतिशत ऊपर) में सतर्क था। हमारा प्री-प्रोविजन ऑपरेटिंग प्रॉफिट 3,185 करोड़ रुपये पर मजबूत था। इंडसइंड बैंक के प्रबंध निदेशक और सीईओ श्री सुमंत कथपालिया ने कहा, बैंक ने 0.84 प्रतिशत के शुद्ध एनपीए और आकस्मिकताओं के लिए 2,050 करोड़ रुपये के अधिशेष प्रावधान के साथ रूढ़िवादी प्रावधान दृष्टिकोण का पालन किया है।

मंगलवार, 27 जुलाई को इंडसइंड बैंक के शेयर बीएसई पर 0.58 फीसदी की गिरावट के साथ 975.65 रुपये पर बंद हुए।

.

Previous articleडेमलर इंडिया ने अपने तमिलनाडु प्लांट में ट्रक ड्राइवरों का टीकाकरण शुरू किया
Next articleक्या मां के दूध में mRNA का टीका मिल सकता है?